Railway NTPC Exam Scam: पटना से आरा तक छात्रों के कब्जे में रहा रेल ट्रैक, ट्रेन सेवा बाधित

Students Protest In Bihar: बिहार के अलगअलग जिलों में प्रदर्शन करने वाले छात्रों ने आरोप लगाया है कि रेलवे ग्रुप डी की परीक्षा में जो बदलाव किया गया है वह सही नहीं हैं. फरवरी 2019 में उन्होंने फॉर्म भरा था. इसके बाद रेलवे की तरफ से सितंबर 2019 में परीक्षा लेने की बात भी कही गई थी लेकिन तय समय पर परीक्षा नहीं हुई.

रेलवे परीक्षा में धांधली का आरोप लगाते हुए हजारों की संख्या में छात्रों ने पटना के अलावा आरा में कई घंटों तक रेलवे ट्रैक जाम कर हंगामा किया. पुलिस वालों के समझाने और तमाम कोशिशों के बाद भी छात्र हटने को तैयार नही हुए। स्थिति को देखते हुए पटना समेत आरा में वरीय अधिकारियों को समझाने स्टेशन आना पड़ा.

रेलवे ग्रुप डी की परीक्षा के पैटर्न में हुए बदलाव और एनटीपीसी की परीक्षा में हुई धांधली (NTPC Paper Scam) के विरोध में छात्रों ने सोमवार की देर रात तक बिहार में कई ट्रेनों के पहिए रोक दिए. विभिन्न मांगों को लेकर उग्र छात्रों ने पटना से लेकर आरा तक में ट्रेनों कापरिचालन बाधित कर दिया. छात्रों के हंगामे और प्रदर्शन के कारण जहां कई ट्रेनों को रद्द करना पड़ा (Bihar Cancel Trains) तो विभिन्न स्टेशनों पर कई महत्वपूर्ण ट्रेनें काफी देर तक खड़ी रहीं.

हंगामे की वजह से हावड़ा दिल्ली मेल रेलखंड पर परिचालन घंटों से बाधित रहा. नाराज छात्रों को काबू में करने के लिए पुलिस कोलाठियां चटकानी पड़ी तो आंसू गैस के गोले भी दागने पड़े. पटना डीएम चंद्रशेखर सिंह और एसएसपी राजेन्द्र नगर टर्मिनल पहुँचे और छात्रो़ं को समझाने का प्रयास किया लेकिन जब छात्र नही़ं माने तो पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. 24 जनवरी को पटना और पटना केही राजेंद्रनगर टर्मिनल से प्रस्थान करने वाली पांच ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया. रद्द होने वाली ट्रेनों में 12309 राजेंद्र नगरटर्मिनलनई दिल्ली तेजस राजधानी एक्सप्रेस, 12393 राजेंद्र नगर टर्मिनलनई दिल्ली संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस, 13288 राजेंद्र नगर टर्मिनलदुर्ग साउथ बिहार एक्सप्रेस, 12352 राजेंद्र नगर टर्मिनलहावड़ा एक्सप्रेस और 13201 पटनालोकमान्य तिलक टर्मिनलएक्सप्रेस शामिल थीं.

छात्रों ने आरोप लगाया है कि रेलवे ग्रुप डी की परीक्षा में जो बदलाव किया गया है वह सही नहीं हैं. फरवरी 2019 में उन्होंने फॉर्म भरा था. इसके बाद रेलवे की तरफ से सितंबर 2019 में परीक्षा लेने की बात भी कही गई थी लेकिन तय समय पर परीक्षा नहीं  हुई. निर्धारितसमय पर परीक्षा नहीं होने के बाद डिपार्टमेंट ने दिसंबर 2021 में आश्वस्त किया था कि सीबीटी की परीक्षा 23 फरवरी 2022 से शुरूहोगी. छात्रों का आरोप है कि अब अचानक रेलवे ने सोमवार को नोटिस जारी करते हुए यह कहा है कि ग्रुप डी की परीक्षा एक नहीं बल्कि2 एग्जाम के तहत लिया जाएगा.

छात्रों ने कहा कि यह फैसला छात्रों के हित में नहीं है. छात्रों ने यह भी आरोप लगाया कि एग्जाम में पहले से ही देरी हो गई है और अबऐसे में दो परीक्षा आयोजित होने से दोतीन साल और लग जाएंगे. प्रदर्शन करने वाले छात्रों का कहना था कि एनटीपीसी की परीक्षादिसंबर 2020 से अप्रैल 2021 में हुई थी. बोर्ड ने कहा था कि पीटी का रिजल्ट 20 गुना ज्यादा दिया जाएगा लेकिन कोई अपने नियमों परखरा नहीं उतरा. छात्रों ने कहा है कि ग्रुप डी के नोटिफिकेशन को वापस लिया जाए और एनटीपीसी रिजल्ट को फिर से रिवाइज कियाजाए.